किसी क्षण के लिए जीकर देखो!

‘जीवन का आदर्श क्या है?’ एक युवक ने पूछा है। रात्रि घनी हो गयी है और आकाश तारों से भरा है। हवाओं में आज सर्दी है और शायद कोई कहता था कि कहीं ओले पड़े हैं। राह निर्जन है और वृक्षों के तले घना अंधेरा है। और इस शांत शून्य-घिरी रात्रि में जीना कितना आनंदमय है! होना मात्र ही कैसा आनंद है, पर हम ‘मात्र जीना’ नहीं चाहते हैं! हम तो किसी आदर्श के लिए जीना चाहते हैं। जीवन को साधन बनाना चाहते हैं, जो कि स्वयं साध्य है। यह आदर्श दौड़ सब विषाक्त कर देती है। यह आदर्श का … Continue reading किसी क्षण के लिए जीकर देखो!